नन्द जी रा लाला म्हें फेरूँ थारी माला -nand ji ka laala mhe ferun thari maala rajasthani krishna bhajan lyrics

नन्द जी रा लाला, मैं तो फेरूँ थारी माला

मुरली प्रेम री बजाई रे नंदलाला

मुरली री आवाज़ म्हें तो पनघट पे सुनी थी
के पानी भरतो छोड़ आई रे नंदलाला
मुरली प्रेम री बजाई रे नंदलाला

मुरली री आवाज़ म्हें तो बागा में सुनी थी
के फूलडा तोड़ती छोड़ आई रे नंदलाला
मुरली प्रेम री बजाई रे नंदलाला

मुरली री आवाज़ म्हें तो रसोड़े पे सुनी थी
के फलका पोवती छोड़ आई रे नंदलाला
मुरली प्रेम री बजाई रे नंदलाला

मुरली री आवाज़ म्हारे मन में समाई
क म्हें तो दौड़ी दौड़ी आई रे नन्दलाला  
मुरली प्रेम री बजाई रे नंदलाला

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां