मेला आया सवान का भोले के दर चलो -mela aya sawan ka bhole ke dar chlo

मेला आया सवान का भोले के दर चलो

credit

singer:-ram kumar lakha
हरी की पोड़ी मार के डुबकी कावड काँधे धर लो
मेला आया सवान का भोले के दर चलो

हरी लाल नीली पीली सज रही कावाड हो रही बम बम बोले
ऋषि केश हरिद्वार में डोले कवाडीयो के टोले
मनसा चंडी नील कंठ के दर्शन पावन करलो,
मेला आया सवान का भोले के दर चलो

जल्दी है सुने वाले भोले शिव भोले भाले देवो में देव निराले
मन के दयाल है करे माला माल है सब को ही डमरू वाले,
ओगड़नाथ के द्वारे आ के झोली अपनी भर लो
मेला आया सवान का भोले के दर चलो

सावन की बहार में बुंदू की फुहार में कावाड जो भी उठाये,
शिव काशी नाथ की बाबा भोले नाथ की दया अनोखी पाए
गिरजा पति शिव किरपा करेगे शरण में उनकी चलो
मेला आया सवान का भोले के दर चलो


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां