म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है- mahara man tarse bhole milne ko taras te hai

म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है


credit
singer:-ranjeet raja

लॉकडाउन हटा भोले कावड को तरस ते है
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है
हरी द्वार की नगरी में भोले मेले लगते है
हरी की पोड़ी गूंजे जय कारे लगते है,
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है
नंदी की सवारी है केलाश के वासी हो
हर हर बम बम भोले डमरू भी भजते है,
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है
नर नारी सब भोले कावड तेरी लाते है
जल भर कर के भोले किरपा तेरी पाते है
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है
चाहे पड़ जावे छाले पग फिर भी ना रुकते है
दया दृष्टि से तेरी भोले मंजिल को पाते है
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है
काँधे धर कर भोले कावड़िया जो चलते है
छम छम बाजे धुंगरु नागर शंख भी बजते है
म्हारा मन तरसे भोले मिलने को तरस ते है

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां