माँ गंगा अष्टोत्तर शतनामावली -Maa Ganga Ashtottara Shatanamaval


ॐ गङ्गायै नमः।
ॐ त्रिपथगादेव्यै नमः।
ॐ शम्भुमौलिविहारिण्यै नमः।
ॐ जाह्नव्यै नमः।
ॐ पापहन्त्र्यै नमः।
ॐ महापातकनाशिन्यै नमः।
ॐ पतितोद्धारिण्यै नमः।
ॐ स्रोतस्वत्यै नमः।
ॐ परमवेगिन्यै नमः।
ॐ विष्णुपादाब्जसम्भूतायै नमः।
ॐ विष्णुदेहकृतालयायै नमः।
ॐ स्वर्गाब्धिनिलयायै नमः।
ॐ साध्व्यै नमः।
ॐ स्वर्णद्यै नमः।
ॐ सुरनिम्नगायै नमः।
ॐ मन्दाकिन्यै नमः।
ॐ महावेगायै नमः।
ॐ स्वर्णशृङ्गप्रभेदिन्यै नमः।
ॐ देवपूज्यतमायै नमः।
ॐ दिव्यायै नमः।
ॐ दिव्यस्थाननिवासिन्यै नमः।
ॐ सुचारुनीररुचिरायै नमः।
ॐ महापर्वतभेदिन्यै नमः।
ॐ भागीरथ्यै नमः।
ॐ भगवत्यै नमः।
ॐ महामोक्षप्रदायिन्यै नमः।

 ॐ सिन्धुसङ्गगतायै नमः।
ॐ शुद्धायै नमः।
ॐ रसातलनिवासिन्यै नमः।
ॐ महाभोगायै नमः।
ॐ भोगवत्यै नमः।
ॐ सुभगानन्ददायिन्यै नमः।
ॐ महापापहरायै नमः।
ॐ पुण्यायै नमः।
ॐ परमाह्लाददायिन्यै नमः।
ॐ पार्वत्यै नमः।
ॐ शिवपत्न्यै नमः।
ॐ शिवशीर्षगतालयायै नमः।
ॐ शम्भोर्जटामध्यगतायै नमः।
ॐ निर्मलायै नमः।
ॐ निर्मलाननायै नमः।
ॐ महाकलुषहन्त्र्यै नमः।
ॐ जह्नुपुत्र्यै नमः।
ॐ जगत्प्रियायै नमः।
ॐ त्रैलोक्यपावन्यै नमः।
ॐ पूर्णायै नमः।
ॐ पूर्णब्रह्मस्वरूपिण्यै नमः।
ॐ जगत्पूज्यतमायै नमः।
ॐ चारुरूपिण्यै नमः।
ॐ जगदम्बिकायै नमः।
ॐ लोकानुग्रहकर्त्र्यै नमः।
ॐ सर्वलोकदयापरायै नमः।

ॐ याम्यभीतिहरायै नमः।
ॐ तारायै नमः।
ॐ पारायै नमः।
ॐ संसारतारिण्यै नमः।
ॐ ब्रह्माण्डभेदिन्यै नमः।
ॐ ब्रह्मकमण्डलुकृतालयायै नमः।
ॐ सौभाग्यदायिन्यै नमः।
ॐ पुंसां निर्वाणपददायिन्यै नमः।
ॐ अचिन्त्यचरितायै नमः।
ॐ चारुरुचिरातिमनोहरायै नमः।
ॐ मर्त्यस्थायै नमः।
ॐ मृत्युभयहायै नमः।
ॐ स्वर्गमोक्षप्रदायिन्यै नमः।
ॐ पापापहारिण्यै नमः।
ॐ दूरचारिण्यै नमः।
ॐ वीचिधारिण्यै नमः।
ॐ कारुण्यपूर्णायै नमः।
ॐ करुणामय्यै नमः।
ॐ दुरितनाशिन्यै नमः।
ॐ गिरिराजसुतायै नमः।
ॐ गौरीभगिन्यै नमः।
ॐ गिरिशप्रियायै नमः।
ॐ मेनकागर्भसम्भूतायै नमः।
ॐ मैनाकभगिनीप्रियायै नमः।
ॐ आद्यायै नमः।
ॐ त्रिलोकजनन्यै नमः।

ॐ त्रैलोक्यपरिपालिन्यै नमः।
ॐ तीर्थश्रेष्ठतमायै नमः।
ॐ श्रेष्ठायै नमः।
ॐ सर्वतीर्थमय्यै नमः।
ॐ शुभायै नमः।
ॐ चतुर्वेदमय्यै नमः।
ॐ सर्वायै नमः।
ॐ पितृसन्तृप्तिदायिन्यै नमः।
ॐ शिवदायै नमः।
ॐ शिवसायुज्यदायिन्यै नमः।
ॐ शिववल्लभायै नमः।
ॐ तेजस्विन्यै नमः।
ॐ त्रिनयनायै नमः।
ॐ त्रिलोचनमनोरमायै नमः।
ॐ सप्तधारायै नमः।
ॐ शतमुख्यै नमः।
ॐ सगरान्वयतारिण्यै नमः।
ॐ मुनिसेव्यायै नमः।
ॐ मुनिसुतायै नमः।
ॐ जह्नुजानुप्रभेदिन्यै नमः।

ॐ मकरस्थायै नमः।
ॐ सर्वगतायै नमः।
ॐ सर्वाशुभनिवारिण्यै नमः।
ॐ सुदृश्यायै नमः।
ॐ चाक्षुषीतृप्तिदायिन्यै नमः।
ॐ मकरालयायै नमः।
ॐ सदानन्दमय्यै नमः।
ॐ नित्यानन्ददायै नमः।
ॐ नगपूजितायै नमः।
ॐ सर्वदेवाधिदेवैः परिपूज्यपदाम्बुजायै नमः।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां