हम भक्त है महाकाल के- hum bhakat hai mahakaal Ke

कालो के भी काल के हम भक्त है महाकाल के,


credit
singer:-ranjeet raja

भारत देश है हम को प्यारा रखेगे सम्बाल के
हम भक्त है महाकाल के
विष का प्याला पी कर के नील कंठ कहलाये भोले
रख लपेटे मुर्दों की श्मशानो के स्वामी भोले
रूप अनोखा भोले तेरा अधाम्भर को टाल के
हम भक्त है महाकाल के
रन चंडी माँ बनी थी काली बूंद बूंद लहू की पी डाली
शांत किया था माँ काली  को वरना शिर्ष्टि होती काली
आँखों में भटके है ज्वाला जीबा को निकाल के
हम भक्त है महाकाल के
भुत प्रेत सब साथी तेरे सब साथी तेरे
कुण्डी सोटा बगल में तेरे
अविनाशी हो केलाशी हो पर्वत उपर डेरे तेरे
सावन में यु नगर बोले काँधे कावड डाल के
हम भक्त है महाकाल के

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां