हरी द्वार की याद सतावे- hari dwar ki yaad satave

हरी द्वार की याद सतावे भोले कद सी बुलावे गा,


credit
singer:-pooja sharma

शिव शंकर केलाश पति कद नील कंठ पे आवे गा,
सावन बीता जान लाग रहया घना करे जी आने को
तद्फन लगाया बात मेरा तेरी गंगा जी में नहाने को
हरी की पैडी उपर भोले घोता कब लगवावेगा,
शिव शंकर केलाश पति कद नील कंठ पे आवे गा,
केलाशी महादेव सुनो तुम नील कंठ महाकाल मेरी
दीवाना हु चडी खुमारी दर्शन को फिलहाल तेरी
डूब रही मजधार बता कद नैया पार लगावे गा
शिव शंकर केलाश पति कद नील कंठ पे आवे गा,
टीकम नागर एकला खड़ा तेरे गलियारे में
बम बम की जैकार सुना दे कावडीयो के लारे में
कहे पूजा शर्मा टीर तने दिल से नाच मनावे गा  
शिव शंकर केलाश पति कद नील कंठ पे आवे गा,

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां