श्री कृष्ण अष्टोत्तर शतनामावली || Krishna Ashtottara Shatanamavali

श्री कृष्ण अष्टोत्तर शतनामावली || Shri Krishna Ashtottara Shatanamavali

ऊँ श्री अनन्ताय नम:
ऊँ श्री आत्मवते नम:
ऊँ श्री अद्भुताय नम:
ऊँ श्री अव्यक्ताय नम:
ऊँ श्री अनिरुद्ध पितामहाय नम:
ऊँ श्री आत्मज्ञान निधये नम:
ऊँ श्री आद्यपते नम:

ऊँ श्री कालिन्दी पतये नम:
ऊँ श्री कंसारये नम:
ऊँ श्री कुब्जावकृत्य निमेवित्रे नम:
ऊँ श्री कालिय मर्दनाय नम:
ऊँ श्री कृष्णाय नम:
ऊँ श्री क्रियामूर्तये नम:
ऊँ श्री कालरूपाय नम:
ऊँ श्री किरीटिने नम:

ऊँ श्री गोपालाय नम:
ऊँ श्री गोप गोपी मुद्रावहाय नम:
ऊँ श्री गोपी गीत गुणोदयाय नम:
ऊँ श्री श्यामाय नम:
ऊँ श्री गोपी सौभाग्य सम्भवाय नम:
ऊँ श्री चतुर्भुजाय नम:
ऊँ श्री गीतानमित पादपाय नम:
ऊँ श्री गोपस्त्री वस्त्रदाय नम:

ऊँ श्री गोवर्धन धराय नम:
ऊँ श्री ज्ञानयज्ञ प्रियाये नम:
ऊँ श्री चाणूर हत्रें नम:
ऊँ श्री गुरुपुत्रे प्रदाय नम:
ऊँ श्री जरासन्ध मदापहाय नम:
ऊँ श्री गरूड़ वाहनाय नम:
ऊँ श्री कर्ण विभेदनाय नम:
ऊँ श्री पार्थप्रतीज्ञा पालकाय नम:

ऊँ श्री भीमसेन जय प्रदाय नम:
ऊँ श्री भीषणम बुद्धि प्रदाय नम:
ऊँ श्री परीक्षित प्राण रक्षणाय नम:
ऊँ श्री विपक्ष पक्ष क्षय कृते नम:
ऊँ श्री भीष्म शल्य व्यथापहाय नम:
ऊँ श्री प्रधुम्न जनकाय नम:
ऊँ श्री भद्राभर्त्रे नम:
ऊँ श्री नरकासुर विच्छेत्रे नम:

ऊँ श्री जाम्बन्ती प्रियाय नम:
ऊँ श्री बाणासुर पुरी रोद्रध्रे नम:
ऊँ श्री मुचुकुन्द वर प्रदाय नम:
ऊँ श्री तृणावर्तासुर ध्वासिने नम:
ऊँ श्री त्रयीमूर्तये नम:
ऊँ श्री तापत्रय निवारणाय नम:
ऊँ श्री मित्रविन्दा नेत्र महोत्सवाय नम:
ऊँ श्री दानव मुक्तिदाय नम:

ऊँ श्री दधिमन्थ घटी त्रेत्त्रे नम:
ऊँ श्री देवदेवाय नम:
ऊँ श्री देवकी नन्दनाय नम:
ऊँ श्री द्वारकापुर कल्पनाय नम:
ऊँ श्री नाना क्रीडा परिच्छदाय नम:
ऊँ श्री नवनीत महाचोराय नम:
ऊँ श्री नन्दगोपोत्सव स्फूर्तये नम:
ऊँ श्री भक्तिगम्याय नम:
ऊँ श्री पीतवाससे नम:

ऊँ श्री पूतना स्तन पीड़नाय नम:
ऊँ श्री परम पावनाय नम:
ऊँ श्री प्रकृतये नम:
ऊँ श्री बकासुर ग्राहिणे नम:
ऊँ श्री बलिने नम:
ऊँ श्री बालाय नम:
ऊँ श्री मुकुन्दाय नम:
ऊँ श्री महामंगलदायककाय नम:

ऊँ श्री विराट पुरुष विग्रहाय नम:
ऊँ श्री वेणूवादन तत्पराय नम:
ऊँ श्री परमानन्दनाय नम:
ऊँ श्री मुनिज्ञान प्रदाय नम:
ऊँ श्री मयदानव मोहनाय नम:
ऊँ श्री पांचाली मान रक्षणाय नम:
ऊँ श्री दन्तवक्त्र निवर्हणाय नम:
ऊँ श्री राधाप्रेम सल्लापनि वृताय नम:

ऊँ श्री रूक्मणी जानये नम:
ऊँ श्री पार्थ सार्थ्य निरताय नम:
ऊँ श्री पद्मा स्थिताय नम:
ऊँ श्री पुराणाय नम:

ऊँ श्री लक्ष्मणा बल्लभाय नम:
ऊँ श्री तीर्थ पावनाय नम:
ऊँ श्री योगज्ञान नियोजकाय नम:
ऊँ श्री लीलाक्षाय नम:
ऊँ श्री स्तुति सन्तुष्ट मानसाय नम:
ऊँ श्री वल्लभाय नम:
ऊँ श्री वसुदेव सुताय नम:
ऊँ श्री वत्सलक्ष्मपक्षसे नम:
ऊँ श्री व्यापिने नम:
ऊँ श्री विश्वविमोहनाय नम:
ऊँ श्री वृन्दावन प्रियाय नम:

ऊँ श्री पौण्डूक प्राण हराय नम:
ऊँ श्री यशोदास्तन्य मुदिताय नम:
ऊँ श्री यमलार्जुन भन्जाय नम:
ऊँ श्री यादवाय नम:
ऊँ श्री यमुना तट सच्चारिणे नम:
ऊँ श्री शोरये नम:
ऊँ श्री शेषशायिने नम:
ऊँ श्री सुखवासाय नम:

ऊँ श्री शंख चक्र गदा पद्मम पाणये नम:
ऊँ श्री शकटासुर भंजनाय नम:
ऊँ श्री सर्वदेवाय नम:
ऊँ श्री सुनन्द सुह्रदये नम:
ऊँ श्री श्री सर्वेश्वराय नम:
ऊँ श्री शंख चूड़शिरोहराय नम:
ऊँ श्री सत्राजित रत्न वाचकाय नम:

ऊँ श्री सत्यभामा प्रियाय नम:
ऊँ श्री षोदश स्त्री सहत्रेशाय नम:
ऊँ श्री षड़विशंकाय नम:
ऊँ श्री साम्ब जनकाय नम:
ऊँ श्री विदुरातिथ्य सन्तुष्टाय नम:
ऊँ श्री ब्रह्मवृक्ष वरच्छायासीनाय नम:

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां