श्री राम अवतार स्तोत्रम || Sri Ram Avtar Stotram

भय प्रगट कृपाला दीन दयाला कौशिल्या हितकारी |
हरषित महतारी मुनि-मन हारी अदभुत रूप निहारी ||

लोचन अभिरामा तनु घनश्यामा निज आयुध भुजचारी |
भूषण बन माला नयन  विशाला शोभा सिन्धु खरारी ||

कह दुई कर जोरी स्तुति तोरी केहिविधि  करूं अनन्ता |
माया गुण ज्ञान तीत अमाना वेद पुराण भनन्ता ||

करुण  सुखसागर सब गुनआगर जोहिं गावहीं श्रुतिसंता |
सो मम हित लागी जन  अनुरागी प्रगट भय श्रीकन्ता ||

ब्रह्माण्ड निकाया निर्मित माया रोम  रोम प्रतिवेद कहे |
मम उर सो वासी यह उपहासी सुनत धीरमति थिर नरहे ||

उपजा  जब ज्ञाना प्रभुमुस्कान चरित बहुतविधि कीन्ह्चहे |
कहि कथा सुनाई मातु  बुझाई जेहि प्रकार सूत प्रेम लहे ||

माता पुनि बोली सो मति डोली  तजहूँ तात यह रूपा |
कीजे शिशुलीला अति प्रियशीला यह सुख परम अनूपा ||

सुनि  वचन सुजाना रोदन ठाना हवै बालक सुर भूप |
यह चरित जो गावहिं हरिपद  पावहीं ते न परहीं भव कूपा ||
दोहा
विप्र धेनु सुर सन्त हित, लीन्ह मनुज अवतार |
निज इच्छा निर्मित तनु, मायों  गुण गोपार ||
Shree Ram Avtar Stotram

Ram Avtar Stotram


Post a Comment

Help us to Build Neat & Clean Content.if you have any information or useful content related to this site. Please Let us know and we are happy to update our content or Publish new Content on this website.

नया पेज पुराने