Subscribe Us

Jagdamba ji ki Aarti - जगदम्बा जी की आरती

जगदम्बा जी की आरती - Jagdamba ji ki Aarti


सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ।
                सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

पान सुपारी धव्जा नरिरल ले तेरी भेंट चढ़ाया 
                सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

सुआ चोली तेरे अंग बिराजे, केसर तिलक लगाया 
                 सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

ब्रह्मा वेद पढ़े तेरे द्वारे,शंकर तिलक लगाया 
                    सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

नंगे नंगे पग से तेरे सम्मुख से अकबर आया 
                     सोने का छत्र चढ़ाया...
                   सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

सतयुग द्वापर त्रेता मद्धया कलयुग राज सवाया ।।
                     सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

धुप, दीप, नैवैध आरती मोहन भोग लगाया ।।
                    सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

धयानू भक्त मैया तेरा गुण गाये मनबांछित्त फल पाया 
                     सुन मेरी देवी पर्वत बासिनि तेरा पार न पाया ......

jagdamba aarti,maa jagdamba ki aarti,jagdamba aarti lyrics

Maa Jagdamba ji ki Aarti



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां